अन्तर्राष्ट्रीयटॉप न्यूज़

भारत- चीन सीमा पर तनाव : भारतीय सैनिकों को उकसाने के लिए चीन कर रहा फायरिंग

नई दिल्ली । धोखेबाज चीन का झूठ एक बार फिर सामने आया है । उसने पूर्वी लद्दाख सेक्टर में सोमवार रात को यथास्थिति को ना केवल बदलने की कोशिश की बल्कि भारत के जवानों को उकसाने के लिए हवा में फायरिंग भी की । इतना ही नहीं उसने भारतीय सैनिकों पर सीमा पार करने का झूठा आरोप भी लगाया । मंगलवार को चीन के झूठ पर भारतीय सेना ने बयान दिया है। सेना ने कहा कि हमारी ओर से कोई फायरिंग नहीं हुई है। सेना ने ये भी कहा कि चीन की सेना ने समझौते का उल्लंघन किया।

भारतीय सेना ने मंगलवार को अपने आधिकारिक बयान में कहा कि जब भारत एलएसी पर स्थिति के विघटन और डी-एस्केलेटिंग के लिए प्रतिबद्ध है। चीन आगे बढ़ने के लिए उत्तेजक गतिविधियों को जारी रखे हुए हैं। चीन के दावे को झुठलाते हुए सेना ने कहा कि किसी भी चरण में भारतीय सेना ने एलएसी पर पारगमन नहीं किया है या फायरिंग सहित किसी भी आक्रामक साधन का उपयोग करने का सहारा लिया है।

भारतीय सेना का आधिकारिक बयान-

पीएलए सैन्य और राजनीतिक स्तर पर बातचीत के बाद भी आक्रामक रूप से समझौतों का उल्लंघन कर रहा है और आक्रामक युद्धाभ्यास कर रहा है। तत्काल मामले में 07 सितंबर 2020 को पीएलए सैनिकों ने एक बार फिर ऐसा ही प्रयास किया था। पीएलए के सैनिकों ने खुद के सैनिकों को डराने के प्रयास में हवा में कुछ राउंड फायरिंग की। हालांकि, गंभीर उकसावे के बावजूद हमारे सैनिकों ने संयम बरता और व्यवहार किया।

सेना ने कहा, “भारतीय सेना शांति बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है। हालांकि हर कीमत पर राष्ट्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के लिए भी दृढ़ है। पश्चिमी थिएटर कमान का बयान उनके घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्‍तर पर गुमराह करने का एक प्रयास है।

भारत ने फिर LAC पार की: चीन

इससे पहले चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (CCP) के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने दावा किया कि भारतीय सैनिकों ने सोमवार को फिर से अवैध रूप से वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) को पार कर लिया और चीनी सीमा पर गश्त करने वाले सैनिकों पर चेतावनी देते हुए हवा में फायरिंग की। एक चीनी सैन्य प्रवक्ता ने कहा कि चीनी सैनिकों को स्थिति को स्थिर करने के लिए जवाबी कार्रवाई करने के लिए मजबूर किया गया।

चीनी पीपुल्स लिबरल आर्मी (पीएलए) के प्रवक्ता सीनियर कर्नल झांग शुइली ने कहा, “भारतीय सेना ने चीन-भारत सीमा के पश्चिमी हिस्से में एलएसी को पार कर पैंगोंग त्सो झील के दक्षिण तट के पास शेनपाव पर्वत क्षेत्र में प्रवेश किया।” प्रवक्ता ने कहा, “भारतीय पक्ष ने दोनों पक्षों द्वारा किए गए संबंधित समझौतों का गंभीरता से उल्लंघन किया, जिससे क्षेत्र में तनाव बढ़ गया और आसानी से गलतफहमी पैदा हो सकती थी, जोकि एक गंभीर सैन्य उकसावे की घटना है और बहुत ही स्वाभाविक है।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button