टॉप न्यूज़राजनीति

हजारीबाग : ब्रिटिश कानून के रॉलेट एक्ट से प्रेरित है लखीमपुर खीरी में किसानों का नरसंहार : डॉ. आरसी प्रसाद मेहता

रामअवतार स्वर्णकार :
हजारीबाग /इचाक । कांग्रेस नेता डॉ आरसी प्रसाद मेहता ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुए किसानों की हत्या की निंदा करते हुए कहा कि भारतीय संविधान में जनता को विरोध करने का अधिकार है, परंतु केंद्रीय राज्यमंत्री अजय मिश्रा के पुत्र द्वारा विरोध करने वाले आठ किसानों एवं निर्दोष ग्रामीणों को गाड़ी से रौंदकर निर्मम हत्या करना ब्रिटिश सरकार के रॉलेक्ट एक्ट को याद दिलाता है।

रोलट कानून 18 मार्च 1919 को ब्रिटिश सरकार द्वारा भारत में उभर रहे राष्ट्रीय आंदोलन को कुचलने के उद्देश्य से निर्मित कानून बनाया था। सर सिडनी रोलेट की अध्यक्षता में यह कानून भारतीय क्रांतिकारियों को कुचलने के लिए बनाया था यह एक ऐसा कानून था रोलेट एक्ट के अंतर्गत ब्रिटिश सरकार को अधिकार दिया गया था कि वह किसी भी भारतीय को बिना मुकदमा चलाए अदालत में और जेल में बंद कर सकते थे हत्या कर सकते थे ।

जिसे ब्रिटिश काला कानून भी कहा जाता है . डॉ मेहता ने कहा की अब गुलाम भारत नहीं है। किसानों की हृदय विदारक निर्मम हत्या केंद्र और यूपी सरकार को किसानों की हत्या का खामियाजा निश्चित तौर पर भुगतना पड़ेगा। यह चिंगारी यूपी में सत्ता परिवर्तन का मुख्य कारण बनेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button